ताजा खबर
पत्रकारों एवं अधिवक्ताओं ने एडिशनल सीपी से मुलाकात की   ||    जिले में गुरुवार को फिर लगेगी ‘पोषण पाठशाला’वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए पाठशाला में मिलेगी शिक्षा   ||    प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) पूर्णतः निःशुल्क है, इसमें किसी भी प्रकार का कोई शुल्क देय नहीं है   ||    आकाशीय बिजली गिरने से मान्धातेश्वर मंदिर के शिखर का कलश हुआ छतिग्रस्त   ||    कमिश्नर ने मंडल में औद्योगिक वातावरण को मजबूत करने पर दिया जोर   ||    विधिक सचिव ने केन्द्रीय कारागार का किया साप्ताहिक निरीक्षण, बंदियों से वार्ता कर उनकी समस्या सुनी तथ...   ||    84 साल के प्रोफेसर अमल धारी सिंह ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय डी.लिट. की उपाधि हासिल की   ||    श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के नव्य-दिव्य स्वरूप में आने के बाद देश भर में डाक विभाग द्वारा बाबा के प्र...   ||    पुलिस अधीक्षक वाराणसी ग्रामीण द्वारा की गयी अपराध समीक्षा बैठक, अपराधियों पर कठोर कार्यवाही हेतु दिए...   ||    बुलेट वाली दुल्हनिया : बाइक पर लाई दूल्हे भाई को बेठाकर मंडप में, शानदार अंदाज में रची शादी !   ||   

संयम मनोरंजन के लिए नहीं, आत्म रंजन के लिए होता है।-  मुनि विशद सागर


वाराणसी। श्री दिगंबर जैन समाज काशी के तत्वावधान में चल रहे जैन धर्म के महान पर्व पर्युषण के छठवें दिन 15 सितंबर को जैन मंदिरों में विशेष पूजन के साथ अनंत चतुर्दशी पूजा प्रारंभ हुई। श्रीफल, चंदन, अक्षत, पुष्प, बादाम चढ़ाकर श्रावकों ने संस्कृत के श्लोकों एवं मंत्रोच्चारण के साथ तीर्थंकरों का पंचाभिषेक किया। चौबीसी पूजन एवं श्रीजी भगवान की शान्ति धारा दैविक आपदाओं को रोकने के लिए की गई। 10 लक्षण पूजा विधान नित्य की भाँति किए जा रहे हैं ।

भगवान पार्श्वनाथ जी की जन्मभूमि (तीर्थक्षेत्र) भेलुपूर में बुधवार को प्रातः मंदिर जी में धर्म के 10 लक्षणों पर विशेष व्याख्यान के छठवें दिन “ उत्तम संयम धर्म “ पर बोलते हुए आचार्य श्री 108 विशद सागर जी ने कहा-“ संयम मनोरंजन के लिए नहीं, आत्म रंजन के लिए होता है। ये मन चंचल है, गलत दिशाओं में जल्द प्रवृत्त होता है । इन्द्रियां यानी स्पर्श , जीभ , नाक , आँखें और कान अपने मन को गलत विषयों में लगा देते हैं । मन को सही दिशा में रखने के लिए , संयम रूपी ब्रेक लगाना ज़रूरी है ।संयम , नियम , मर्यादा , अनुशासन से जीवन महान बनता है और लक्ष्य हासिल होता है । अतः संयम को रत्न की भाँति सम्भाल कर रखना चाहिए। मुनिश्री ने कहा संयम हमें मर्यादा में रहना सिखाता है। सात्विक भोजन से जीवन संयमित रहता है। अहिंसा, संयम और तप ही धर्म है। मानव जीवन की शोभा संयम से होती है विषय भोगों से नहीं। सायंकाल कश्मीरी गंज खोजवा स्थित श्री 1008 अजित नाथ दिगंबर जैन मंदिर में शास्त्र प्रवचन करते हुए प्रोफ़ेसर फूलचंद प्रेमी ने कहा संयम से  आध्यात्म की कसौटी है। 

भोग-उपभोग की सीमा तय करना ही संयम है। जीवन का निर्वाह संयम के बिना असंभव है। सायंकाल नगर की समस्त जैन मंदिरों में शास्त्र प्रवचन, भजन, भगवान पार्श्वनाथ, देवी पद्मावती माता जी एवं क्षेत्रपाल बाबा की सामूहिक आरती की गई। महिला मंडल द्वारा वाद-विवाद विषय टी.वी. एवं मोबाइल वर्तमान में कितने प्रासंगिक हैं पर  प्रतियोगिता आयोजित की गई। 

आयोजन में प्रमुख रूप से सर्वश्री दीपक जैन, राजेश जैन, अरुण जैन, जिवेंद्र  कुमार जैन, वी. के. जैन, राजेश भूषण जैन, आर.सी . जैन, श्रीमती प्रमिला सामरिया, ऊषा जैन उपस्थित थीं। यह विवरण राजेश जैन उपाध्यक्ष श्री दिगंबर जैन समाज काशी ने दी।

Posted On:Wednesday, September 15, 2021


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.