ताजा खबर
Erling Haaland ग्रोइन इंजरी के साथ नॉर्वे के यूरो क्वालिफायर से चूकें, हुए भावुक !   ||    त्रिकोणीय राष्ट्र टूर्नामेंट में भारतीय फुटबॉल टीम की पहली मेजबानी के लिए मणिपुर तैयार !   ||    IPL 2023 ​के लिए तैयारियां शुरू, कमेंटेटर्स के स्टार-स्टडेड पैनल का ऐलान !   ||    गुड़ी पड़वा 2023: यहां जानिए, शुभ मुहूर्त, परंपराएं और सबकुछ जो आपको जानना चाहिए !   ||    Steel Price Per Kg Today 2023: यहां जानिए क्या है आज आपके शहर में स्टील का भाव !   ||    Gold Silver Price Today: नवरात्रि के पहले दिन बढ़े सोने-चांदी के दाम, जानें 10 ग्राम गोल्ड के रेट   ||    Petrol Diesel Price Today: सरकारी तेल कंपनियों ने जारी किए आज के लिए पेट्रोल-डीजल के भाव, यहां जानिए   ||    अगर आप भी हैं 10वीं पास, तो CRPF में नौकरी करने का सुनहरा मौका, जल्दी करें अप्लाई   ||    Pakistan में 6.5 तीव्रता का भूकंप, दहशत का माहौल   ||    Afghanistan: 6.9 तीव्रता का भूकंप, लोगों में दहशत का माहौल   ||   

पूर्व सीजेआई जस्टिस यूयू ललित ने कहा, रिटायरमेंट के बाद जजों का सरकारी पद लेना व्यक्तिगत फैसला, जानिए और क्या कहा

Posted On:Saturday, March 18, 2023

मुंबई,18 मार्च, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में पहुंच गए हैं। कुछ ही देर में वो यहां संबोधन देंगे। दिल्ली के होटल ताज पैलेस में चल रहे इस कॉन्क्लेव में PM बतौर मुख्य वक्ता शामिल हुए। वे यहां भारत और दुनिया के लिए उनके विजन के बारे में बताएंगे। इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2023 शुक्रवार को शुरू हुआ था। इसमें पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, अभिनेता रामचरण समेत तमाम केंद्रीय मंत्रियों और बड़ी हस्तियों ने अलग अलग विषयों पर अपने विचार रखे। कॉन्क्लेव का यह 20वां एडिशन है। 

इसमें पूर्व सीजेआई जस्टिस यूयू ललित ने भी अपने विचार रखते हुए कहा कि, पत्रकार कप्पन जैसे केस में बेल न मिलने और मनी लॉन्ड्रिंग केस में आरोपियों को निचली आदलत से बेल मिलने के सवाल पर कहा कि बेल देने का फैसला जजों के विवेक पर निर्भर करता सभी की अपनी राय हो सकती है। कई केसों में जज शायद इसलिए बेल देने का इंतजार करते हैं क्योंकि उन्हें लगता हो कि केस में अभी जांच पूरी होनी बाकी, मामले में कुछ और तथ्य सामने आ सकते हैं। उन्होंने यहां द शेप एंड सैंक्टिटी ऑफ कोर्ड एंड चेयर विषय पर बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि जजों का रिटायरमेंट के बाद सरकारी पद लेना उनका व्यक्तिगत फैसला है। अगर किसी को इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं लगता है तो वह ऐसे प्रस्तावों को स्वीकार कर सकता है, लेकिन मेरे जैसे लोग जिन्हें इस पर आपत्ति है, वे अपने जीवन में कुछ और कर सकते हैं। मैं वकील रह चुका हूं, मैं एक जज रहा और अब मैं एक प्रोफेसर के तौर पर काम कर रहा हूं।


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.