ताजा खबर
"सार्वजनिक स्थलों से बैनर, पोस्टर हटाने का कार्य प्रारंभ कर दिया जाए, वॉल पेंटिंग किसी के द्वारा भी ...   ||    8 दिसंबर को प्रातः 8:30 बजे 39 जीटीसी फुटबॉल ग्राउंड में आयोजित होगा वेटरनस सैनिक सम्मेलन   ||    पैच वर्क हेतु मोबाइल टास्क फोर्स का किया गया गठन   ||    नगर निगम ने नगर के सभी भवनों का विवरण किया गया आनलाइन   ||    घर के कच्चे मकान में लटकता मिला किशोरी का शव, 3 दिन से थी लापता   ||    संदिग्ध हाल में पेड़ से लटकता मिला युवक का शव, जांच में जुटी पुलिस   ||    उ.प्र. राज्य बाल अधिकार संरक्षण के सदस्यों ने सनबीम स्कूल का निरीक्षण कर वहां घटित घटना को जघन्य कृत...   ||    राजेन्द्र प्रसाद घाट पर सजी पीएम मोदी के विकास कार्यों की झांकियां   ||    नंद गोपाल नंदी ने अखिलेश यादव पर साधा निशाना।   ||    सुरक्षा व्यवस्था में चौकन्नी पुलिस, 4 थानों से 7 लोगों पर की गुंडा एक्ट की कार्यवाही   ||   

आज से शुरू हुआ 17 दिवसीय मां अन्नपूर्णा का महाव्रत, बिना अन्न और नमक के श्रद्धालु करेंगे व्रत, 9 दिसम्बर को होगा उद्यापन

Posted On:Wednesday, November 24, 2021

वाराणसी। हिन्दू पंचांग के अनुसार अगहन माह के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि यानी बुधवार से मां अन्नूपर्णा का 17 दिवसीय महाव्रत की शुरूआत हो गई। व्रत के पहले दिन परंपरानुसार अन्नपूर्णा मंदिर के महंत शंकरपुरी महाराज ने सुबह 17 गांठ के धागे श्रद्धालुओं में वितरित किये। महंत के अनुसार मां अन्नपूर्णा का व्रत पूजन दैविक, भौतिक का सुख प्रदान करता है और अन्न-धन, ऐश्वर्य की कमी नहीं होती है।

महंत शंकरपुरी ने बताया कि महाव्रत में भक्त 17 गांठ वाला पवित्र धागा धारण करते हैं। इसमें महिलाएं बाएं और पुरुष दाहिने हाथ में इसे धारण करते हैं। इसमें अन्न का सेवन पूरी तरह से वर्जित होता है। इस व्रत के दौरान केवल एक वक्त ही फलाहार किया जाता है वह भी बिना नमक वाला।

महंत ने बताया कि लगातार 17 दिन तक चलने वाले इस अनुष्ठान का उद्यापन 9 दिसम्बर को 17 वें दिन होगा। उसी दिन मां अन्नपूर्णा का दरबार पूरी तरह से पकी हुई धान की बालियों से सजाया जायेगा। इस दौरान मां अन्नपूर्णा के गर्भ गृह समेत पूरे मंदिर परिसर की अनाज के दानों से सजावट की जाएगी। व्रत और अनुष्ठान पूरा होने के बाद प्रसाद स्वरूप धान की बाली आम भक्तों में वितरण की जायेगी। इस बाली को ही प्रसाद के तौर पर भक्त अपने घरों के अनाज में मिलाकर रखते हैं। पूर्वांचल के किसान अपनी फसल की पहली धान की बाली मां अन्नपूर्णा को अर्पित करते हैं। अर्पित करने के बाद उसी बाली को प्रसाद के रूप में दूसरी धान की फसल में मिला देते हैं। मान्यता है कि इससे फसल में बढ़ोतरी होती है।


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.