ताजा खबर
भाजपा क्षेत्रीय कार्यालय पर अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव ने बीते दिन किया ध्वजारोहण   ||    धूम धाम से ग्रामीण क्षेत्रों में मनाया गया आजादी का जश्न, जुलूस के साथ लहराया गया तिरंगा झंडा   ||    तिरंगा सप्ताह का छटवां दिन खिलाड़ियों के नाम रहा   ||    गंगा नदी पर आज निकली तिरंगा यात्रा   ||    आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर नुक्कड़ ...   ||    आप ने अरविंद केजरीवाल के जन्मदिन पर किया पौधारोपण,केक काटकर धूमधाम से मनाया जन्मदिन   ||    गडौली धाम में श्री बालेश्वर महादेव का राष्ट्रीय ध्वज के रंग में श्रृंगार,भक्तों ने देखा कौतूहल भरी न...   ||    क्या मकान के किराए पर लगेगा 18 फीसदी जीएसटी? जानिए पूरी सच्चाई   ||    16 अगस्त 2022: जानिए, प्रेम और पार्टनर के साथ कैसा रहेगा आज का दिन !   ||    शोधकर्ताओं ने बताया, अपने साथी के साथ बैड शेयर करने से नींद की गुणवत्ता और मानसिक स्वास्थ्य में सुधा...   ||   

वैज्ञानिकों ने शोध में पाया, हार्ट अटैक के बाद भी आपका दिल पहले की तरह हो सकता है स्वस्थ

Posted On:Friday, June 24, 2022

मुंबई, 24 जून, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। हार्ट अटैक एक गंभीर बीमारी है। दुनियाभर में होने वाली कुल मौतों में दिल की बीमारी से होने वाली मौतें एक चौथाई हैं।  हार्ट अटैक के बाद भी आपका दिल पहले की तरह स्वस्थ हो सकता है। यूनिवसिर्टी ऑफ कैलिफोर्निया द्वारा हाल ही में किए गए एक शोध में यह बात सामने आई है। वैज्ञानिकों ने शोध में पाया कि हार्ट अटैक से डेड होने वाली कोशिकाओं (सेल्स) को हॉर्मोन के जरिए दोबारा जीवित किया जा सकता है। खास बात ये है कि ये बिल्कुल नेचुरल होंगी।

 जो जीन थैरेपी प्रक्रियाओं के मामले में भी काफी फायदेमंद साबित होगी। अभी यह प्रयोग चूहो में किया गया है। इसका इंसानों पर परीक्षण बाकी है। अगर परीक्षण मनुष्यों पर कारगर रहा, तो उन लोगों को बचाना और उनके लंबे जीवन की राह खुल सकती है, जिन्हें दिल का दौरा पड़ा है। चूहों पर किए गए इस प्रयोग में एक सिंथेटिक मैसेंजर राइबोन्यूक्लिक एसिड का इस्तेमाल किया गया है। इस तकनीक में mRNA DNA अनुक्रमों का एक ‘ब्लूप्रिंट’ बनाता है, जिसे शरीर प्रोटीन बनाने के लिए वहां पर इस्तेमाल करता है, जहां प्रोटीन हमारी कोशिकाओं को बनाता और नियंत्रित करता है।

वैज्ञानिक के ऐसा करने का मकसद एमआरएनए में बदलाव करके अलग-अलग जैविक प्रक्रियाओं के लिए अलग-अलग निर्देश देना है। यह मैसेज दो तरह से पैदा होते हैं। पहला- स्टेमिन और दूसरा वाईएपी5एसए के जरिए। ये दोनों हॉर्मोन हृदय की मांसपेशियों की कार्डियोमायोसाइट्स को एक्टिव कर देते हैं। इससे हृदय की उन कोशिकाओं को जिंदा करने में मदद मिलती है, जो डेड हो चुकी हैं। वैज्ञानिक डेड कोशिकाओं को नई कोशिकाओं की शक्ल चाहते हैं।


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.