ताजा खबर
क्या 24 घंटे के लिए सभी SIM कार्ड होंगे बंद? PIB ने बताया पूरा सच   ||    वास्तु टिप्स : कुछ पौधे कैसे ला सकते हैं आपके घर में दुर्भाग्य, यहां जानिए सबकुछ !   ||    Regional News Desk : आप कर्नाटक आज मनाएगी पार्टी का स्थापना दिवस !   ||    मधुमेह और metabolic syndrome के इलाज के लिए प्राकृतिक चिकित्सा हैं कारगर !   ||    लैथम-विलियमसन ने चौथे विकेट के लिए 221 रन की साझेदारी कर बनाया ये बड़ा रिकॉर्ड   ||    तलाक की खबरों के बीच सानिया मिर्जा का इमोशनल पोस्ट, लिखा- जब आपका दिल...   ||    1000-500 के नोट बंद होने के बाद आरबीआई ने एक और बड़ा अपडेट जा​री किया !   ||    जानिए क्या है आपके शहर के भाव, फिर स्थिर हुए पेट्रोल-डीजल !   ||    FIFA World Cup 2022 : शनिवार को होगी फ्रांस और डेनमार्क के बीच कांटे की टक्कर (प्रीव्यू)   ||    26/11 मुंबई हमला: जब 10 इस्लामिक आतंकियों ने मुंबई को दहला दिया, जानिए इसके बारे में !   ||   

Shardiya Navratri 2022 Day 2 Maa Brahmacharini Swaroop: नवरात्रि के दूसरे दिन होती है मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, जानिए, कैसे माता नाम पड़ा !

Posted On:Tuesday, September 27, 2022

आज नवरात्रि का दूसरा दिन है। नवरात्रि के दूसरे दिन मां के दूसरे रूप माता ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। दुष्टों को राह दिखाने वाली हैं माता ब्रह्मचारिणी माँ की भक्ति से व्यक्ति में तप, त्याग, धर्म, संयम और दृढ़ता जैसे गुणों की वृद्धि होती है। ब्रह्मचारिणी माता की पूजा करने से आलस्य, अहंकार, लोभ, असत्य, स्वार्थ और ईर्ष्या जैसी बुरी प्रवृत्तियों का नाश होता है। मां के स्मरण से एकाग्रता और स्थिरता आती है। साथ ही बुद्धि, बुद्धि और धैर्य में वृद्धि होती है। ऐसे में आइए जानते हैं माता ब्रह्मचारिणी के स्वरूप और उनके नाम के रहस्य के बारे में।
माँ ब्रह्मचारिणी :माँ दुर्गा की दूसरी शक्ति की पावन कथा,शुभ मुहूर्त, महत्व  ,पूजा विधि, मंत्र,आरती और फल प्राप्ति "स्वाधिष्ठान चक्र"

आपको बता दें कि 'ब्रह्मचारिणी' दुर्गा का ही दूसरा रूप है। नवरात्रि के दूसरे दिन इनकी पूजा की जाती है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी का अर्थ है अभ्यासी यानी मां ब्रह्मचारिणी जो तपस्या करती हैं। दुर्गा सप्तशती के अनुसार यह देवी शांत और तपस्या में लीन हैं। इसके साथ ही मुख पर कठोर तपस्या के कारण तेज और तेज का अनुपम संगम है जो तीनों लोकों को प्रकट कर रहा है।
Chaitra Navratri 2022 Day 2 Maa Brahmacharini Live Aarti How To Worship Maa  Brahmacharini Puja And Meaning- Chaitra Navratri 2022 Day 2 Maa  Brahmacharini Aarti-Bhog: कठिन कार्यों की पूर्ति करती हैं मां

देवी ब्रह्मचारिणी के दाहिने हाथ में माला और बाएं हाथ में कमंडल है। देवी ब्रह्मचारिणी सच्चे ब्रह्म का रूप हैं, यानी तपस्या का अवतार। इस देवी के और भी कई नाम हैं जैसे तपस्चारिणी, अपर्णा और उमा। इस दिन साधक का मन स्वाधिष्ठान चक्र में स्थित होता है। इस चक्र में स्थित साधक को माता ब्रह्मचारिणी जी की कृपा और भक्ति प्राप्त होती है और माता भक्त को आशीर्वाद देती है.
Navratri 2021: Shardiya Navratri 2nd day puja vidhi of Brahmacharini |  Navratri 2021: शारदीय नवरात्रि के दूसरे दिन होती है मां ब्रह्मचारिणी की  उपासना, जानिए पूजा विधि, मंत्र, भोग ...

माँ ब्रह्मचारिणी के नाम का रहस्य
शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि मां दुर्गा के एक अन्य रूप को ब्रह्मचारिणी के रूप में पूजा जाता है। जहां 'ब्रह्मा' का अर्थ है तपस्या और 'ब्रह्मचारिणी' का अर्थ है - तपस्या करने वाली अर्थात तपस्या करने वाली देवी। माता ब्रह्मचारिणी ने पार्वती के रूप में पार्वती के घर पुत्री के रूप में जन्म लिया। भगवान शिव से विवाह करने के लिए, नारद ने माता पार्वती को एक व्रत का पालन करने की सलाह दी। भगवान शिव को पाने के लिए देवी मां ने निर्जल, असहाय होकर घोर तपस्या की। हजारों वर्षों की तपस्या के बाद ही माता पार्वती को तपस्चारिणी या ब्रह्मचारिणी के नाम से जाना जाने लगा।


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.