ताजा खबर
छुट्टी पर गए जोड़े को पता चला कि पत्नी को कैंसर है, जीने के लिए 4 महीने बचे, एयरलाइन ने उड़ान बदलने ...   ||    BAPS Hindu Temple Opens in Abu Dhabi: जानें ड्रेस कोड और अन्य क्या करें और क्या न करें   ||    सॉसेज बहस को लेकर फ्लोरिडा जेल के अंदर पुलिसकर्मी को कुचलने वाले इजरायली राजनयिक के बेटे की पिटाई   ||    अमेरिका में भारतीय क्लासिकल डांसर की गोली मारकर हत्या, शाम को निकले थे टहलने; TV एक्ट्रेस ने भारत सर...   ||    US: गाजा में मानवीय सहायता पहुंचाने के लिए अमेरिका शुरू करेगा एयरड्रोप सुविधा, राष्ट्रपति जो बाइडन न...   ||    सीनियर सिटीजन को हर महीने मिलेंगे 20,000 रुपये, सरकार की इस योजना में करें निवेश   ||    दिल्ली में सालाना एक आम आदमी कमाता है 4,61,000 रुपये, सरकार ने कही ये बात   ||    SBI Card में हुआ बड़ा अपडेट, रिवॉर्ड प्वॉइंट्स पर पड़ने वाला है असर   ||    Business Idea: 5000 रूपये लगाकर अजवाइन से शुरू करें ये अंधाधुंध कमाई वाला शानदार बिजनेस, हर महीनें ह...   ||    अनंत-राधिका के प्री-वेडिंग सेलिब्रेशन में झूमा अंबानी परिवार, इवांका के साथ खिलखिलाती दिखीं नीता   ||   

Bodhi Day 2023: बोधि दिवस 8 दिसंबर को, जानिए बुद्ध के ज्ञान प्राप्ति के दिन का महत्व और इतिहास

Posted On:Friday, December 8, 2023

बुद्ध बनने से पहले, वह सिद्धार्थ गौतम थे, जिनका जन्म एक शाही परिवार में हुआ था। लेकिन फिर भी उन्होंने सभी सुख-सुविधाओं का त्याग कर तपस्या और समर्पण को अपनाया। एक दिन सिद्धार्थ गौतम रात में चुपचाप महल छोड़कर सत्य और ज्ञान की खोज में जंगल की ओर चल दिये। इसके बाद उन्होंने कठोर तपस्या की और परम ज्ञान प्राप्त किया। बोधि दिवस को गौतम बुद्ध के ज्ञान प्राप्ति का प्रतीक माना जाता है। बुद्ध का अर्थ है जागृत या प्रबुद्ध व्यक्ति। गौतम बुद्ध को बौद्ध धर्म का संस्थापक माना जाता है। बौद्ध धर्म दुनिया भर में अपनाए जाने वाले प्रमुख धर्मों में से एक है। बौद्ध धर्म आध्यात्मिक ज्ञान पर केंद्रित है। बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बोधि दिवस बेहद खास दिन है, जो हर साल 8 दिसंबर को मनाया जाता है।
 

बोधि दिवस का इतिहास (बोधि दिवस 2023 का इतिहास)

राजकुमार सिद्धार्थ गौतम जो बाद में बौद्ध धर्म के संस्थापक बने। उनका जन्म 562 ईसा पूर्व लुंबिनी (अब नेपाल) में हुआ था। उनके पिता का नाम शुद्धोधन था, जो शाक्य वंश के राजा थे। एक बार सिद्धार्थ गौतम ने राज्य का दौरा किया, उन्होंने अपने चारों ओर गरीबी और बीमारी देखी और इसका उनके जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ा। ऐसा कहा जाता है कि जब उन्होंने अपना घर छोड़ा तब उनकी उम्र 29 साल थी. जीवन का अर्थ खोजने के लिए उन्होंने 6 वर्षों तक गहन आत्मनिरीक्षण, तपस्या और ध्यान किया। अंततः उन्हें बिहार के बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई। बोधि दिवस उस क्षण की याद दिलाता है जब सिद्धार्थ गौतम को ज्ञान प्राप्त हुआ और वे बुद्ध के रूप में जागृत हुए। ये सब करीब ढाई हजार साल पहले हुआ था.

बोधि दिवस कैसे मनाया जाता है?

इस दिन को पूरी दुनिया में बौद्ध धर्मावलंबियों द्वारा उत्साहपूर्वक मनाया जाता है। बोधि दिवस मनाने का मुख्य आकर्षण सभी के लिए अच्छा करना, जीवन के महत्वपूर्ण सबक याद रखना, जीवन का अर्थ खोजना और आध्यात्मिकता की नींव को मजबूत करना है। आमतौर पर इस दिन लोग बोधि वृक्ष की तरह अंजीर के पेड़ों को भी सजाते हैं। क्योंकि बुद्ध ने बोधि वृक्ष के नीचे ध्यान किया था। इस दिन बौद्ध भिक्षु विशेष पूजा भी करते हैं।


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.