ताजा खबर
Shaniwar Ke Upay : चमकेगा भाग्य, सभी परेशानियां होंगी दूर, बस शनिवार के दिन करें ये उपाय   ||    365 दिन की वैलिडिटी वाला किसका रिचार्ज प्लान सबसे सस्ता?   ||    Shukrawar Ke Upay: शुक्रवार के दिन पूजा के समय करें ये चमत्कारी उपाय, घर चलकर आएंगी मां लक्ष्मी, देख...   ||    Shukrawar Ke Upay: शुक्रवार के दिन पूजा के समय करें ये चमत्कारी उपाय, घर चलकर आएंगी मां लक्ष्मी, देख...   ||    ईडी के समन के खिलाफ केजरीवाल की याचिका उच्च न्यायालय ने 9 सितंबर के लिए सूचीबद्ध की   ||    Sakar Vishwa Hari: कुंवारी लड़कियां ही बनती शिष्या, लेनी पड़ती है खास दीक्षा, भोले बाबा पर चौंकाने व...   ||    Delhi: बेटा नहीं हुआ तो नवजात जुड़वां बच्चियों को भूखा रखकर मार डाला, गिरफ्तार हुआ दरिंदा पिता   ||    IMD Weather Forecast Today, आज का मौसम 11 जुलाई LIVE: 13 जुलाई तक देशभर में बारिश का अलर्ट, दिल्ली-ए...   ||    लापता होने के 9 महीने बाद मिले सेना के 3 जवानों के शव, बर्फ के पहाड़ में थे दबे   ||    ग्रेटर नोएडा: गाजे-बाजे से साथ निकली गाय की अंतिम यात्रा, अर्थी को गुब्बारों से सजाया   ||   

World Blood Donor Day : आखिर क्यों मनाया जाता है विश्व रक्तदान दिवस जानें इतिहास एंव महत्त्व

Photo Source :

Posted On:Friday, June 14, 2024

14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस घोषित किया गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन हर साल 14 जून को 'रक्तदान दिवस' मनाता है। वर्ष 1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 100 प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान नीति की नींव रखी। वर्ष 1997 में संगठन का लक्ष्य था कि विश्व के 124 प्रमुख देश अपने देश में स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा दें। इसका उद्देश्य रक्त की आवश्यकता होने पर भुगतान करने से बचना था, लेकिन अब तक केवल 49 देशों ने ही इसे लागू किया है। तंजानिया जैसे देश में 80 प्रतिशत रक्तदाता पैसे नहीं लेते, भारत समेत कई देशों में रक्तदाता पैसे लेते हैं। ब्राजील में कानून है कि रक्तदान करने के बाद आपको किसी भी तरह की मदद नहीं मिल सकती है। ऑस्ट्रेलिया के साथ-साथ कुछ अन्य देश भी हैं जहां रक्तदाताओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।

14 जून ही क्यों?

कम ही लोग जानते हैं कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस के रूप में क्यों चुना। दरअसल, यह दिन अपने समय के प्रसिद्ध ऑस्ट्रियाई जीवविज्ञानी और भौतिक विज्ञानी कार्ल लैंडस्टीनर (जन्म 14 जून 1868 - मृत्यु 26 जून 1943) के जन्मदिन को मनाने के लिए मनाया जाता है। रक्त को विभिन्न रक्त समूहों - ए, बी, ओ में वर्गीकृत करके चिकित्सा विज्ञान में महत्वपूर्ण योगदान देने का श्रेय उपरोक्त ऋषि को जाता है, जिन्हें वर्ष 1930 में फिजियोलॉजी या मेडिसिन में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। रक्त में एग्लूटीनिन की उपस्थिति 1 ]

भारत में रक्तदान की स्थिति

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानदंडों के अनुसार, भारत को सालाना एक करोड़ यूनिट रक्त की आवश्यकता होती है लेकिन केवल 75 लाख यूनिट ही उपलब्ध हो पाता है। इसका मतलब है कि लगभग 25 लाख यूनिट रक्त की कमी के कारण हर साल सैकड़ों मरीजों की मौत हो जाती है। राजधानी दिल्ली के आंकड़ों के मुताबिक, हर साल 350 लाख रक्त यूनिट की जरूरत होती है, लेकिन इनमें से केवल 30 प्रतिशत ही स्वैच्छिक रक्तदाताओं से एकत्र किया जाता है।

दिल्ली का हाल भी बाकी भारत जैसा ही है. यह अकारण नहीं है कि भले ही भारत की जनसंख्या सवा अरब तक पहुँच गयी हो, रक्तदाताओं की संख्या कुल जनसंख्या का एक प्रतिशत भी नहीं पहुँच पायी है। विशेषज्ञों के अनुसार, भारत में कुल रक्तदान का केवल 59 प्रतिशत स्वैच्छिक होता है। जबकि राजधानी दिल्ली में स्वैच्छिक रक्तदान मात्र 32 फीसदी है. दिल्ली में 53 ब्लड बैंक हैं लेकिन अभी भी एक लाख यूनिट खून की कमी है. दुनिया में कई ऐसे देश हैं जो इस मामले में भारत को भी पीछे छोड़ देते हैं।

ज्ञातव्य है कि हाल ही में राजशाही के चंगुल से मुक्त होकर गणतंत्र बने नेपाल में रक्त की कुल आवश्यकता का 90 प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान से पूरा होता है, जबकि श्रीलंका में यह 60 प्रतिशत, थाईलैंड में 95 प्रतिशत है। इंडोनेशिया में 77 प्रतिशत और बर्मा में 60 प्रतिशत, जो अपने निरंकुश शासन के लिए प्रसिद्ध है।[2]

रक्तदान को लेकर तरह-तरह की भ्रांतियां

खून की महिमा तो सभी जानते हैं. रक्त न केवल आपका जीवन बचाता है बल्कि कई अन्य लोगों का जीवन भी बचा सकता है। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में, बहुत से लोग अभी भी सोचते हैं कि रक्तदान करने से शरीर का खून निकल जाता है और इसकी पूर्ति में महीनों लग जाते हैं। इतना ही नहीं, एक व्यापक भ्रांति भी है कि नियमित रूप से रक्तदान करने से लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है और वे बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। यहां भ्रम इस कदर फैला हुआ है कि लोग रक्तदान का नाम सुनकर ही कांप उठते हैं। कृपया बताएं, क्या इससे पर्याप्त मात्रा में रक्त की उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकती है? विश्व रक्तदान दिवस समाज में रक्तदान को लेकर फैली भ्रांतियों को दूर करने और रक्तदान को प्रोत्साहित करने का काम करता है। इंडियन रेड क्रॉस राष्ट्रीय मुख्यालय ब्लड बैंक के निदेशक डॉ. वनश्री सिंह के मुताबिक, देश में रक्तदान को लेकर भ्रांतियां कम हुई हैं लेकिन अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है।

रक्तदान जीवनदान है

  • आम जनता को पता होना चाहिए कि मानव शरीर में रक्त निर्माण की प्रक्रिया हमेशा चलती रहती है और रक्तदान करने से कोई नुकसान नहीं होता है, बल्कि यह एक बहुत ही लाभकारी कार्य है जिसे जब भी मौका मिले तब करना चाहिए।
  • रक्तदान को लेकर मेडिकल साइंस कहता है कि कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जिसकी उम्र 16 से 60 साल के बीच हो, जिसका वजन 45 किलो से ज्यादा हो और जो एचआईवी, हेपेटाइटिस बी या हेपेटाइटिस सी जैसी बीमारियों से पीड़ित न हो, वह रक्तदान कर सकता है।
  • एक बार में दिए गए 350 मिलीग्राम रक्त की पूर्ति शरीर में 24 घंटे में हो जाती है और गुणवत्ता की पूर्ति 21 दिन में हो जाती है। दूसरे, जो लोग नियमित रूप से रक्तदान करते हैं उन्हें हृदय संबंधी बीमारियाँ कम होती हैं।
  • रक्त की संरचना ऐसी होती है कि इसमें मौजूद लाल रक्त कोशिकाएं तीन महीने (120 दिन) के भीतर अपने आप मर जाती हैं, इसलिए प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति तीन महीने में एक बार रक्तदान कर सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक, आधा लीटर खून तीन लोगों की जान बचा सकता है।
  • डॉक्टरों के मुताबिक खून को ज्यादा दिनों तक स्टोर करके नहीं रखा जा सकता है.


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.