ताजा खबर
"सार्वजनिक स्थलों से बैनर, पोस्टर हटाने का कार्य प्रारंभ कर दिया जाए, वॉल पेंटिंग किसी के द्वारा भी ...   ||    8 दिसंबर को प्रातः 8:30 बजे 39 जीटीसी फुटबॉल ग्राउंड में आयोजित होगा वेटरनस सैनिक सम्मेलन   ||    पैच वर्क हेतु मोबाइल टास्क फोर्स का किया गया गठन   ||    नगर निगम ने नगर के सभी भवनों का विवरण किया गया आनलाइन   ||    घर के कच्चे मकान में लटकता मिला किशोरी का शव, 3 दिन से थी लापता   ||    संदिग्ध हाल में पेड़ से लटकता मिला युवक का शव, जांच में जुटी पुलिस   ||    उ.प्र. राज्य बाल अधिकार संरक्षण के सदस्यों ने सनबीम स्कूल का निरीक्षण कर वहां घटित घटना को जघन्य कृत...   ||    राजेन्द्र प्रसाद घाट पर सजी पीएम मोदी के विकास कार्यों की झांकियां   ||    नंद गोपाल नंदी ने अखिलेश यादव पर साधा निशाना।   ||    सुरक्षा व्यवस्था में चौकन्नी पुलिस, 4 थानों से 7 लोगों पर की गुंडा एक्ट की कार्यवाही   ||   

अधिक पका हुआ केला (Overripe Banana) खाना आपके सेहत के लिए हानिकारक; जानिए इसके साइड इफेक्ट्स

Posted On:Wednesday, September 29, 2021

न्यूज़ हेल्पलाइन - मुंबई, २९ सितम्बर, २०२१    

केला दूसरे फलों की तुलना में बहुत ही सस्ता फल होता है और इसे खाने के फायदे भी कई होते हैं। केले में कई तरह के पोषक तत्व होते हैं। स्पोर्ट्स एक्टिविटी के दौरान आपने खिलाड़ियों को केला खाते देखा होगा। दरअसल, केला शरीर को तुरंत एनर्जी से भर देता है। इसमें सबसे अधिक पोटेशियम, फोलेट, फाइबर होता है। पेट के लिए केला बहुत ही हेल्दी फल माना गया है। अक्सर लोग केला खरीद कर ले आते हैं, लेकिन जल्दी नहीं खाने से ये रखे-रखे बहुत ज्यादा गल-पक जाते हैं। बहुत अधिक पका हुआ केला खाना भी सेहत के लिए सही नहीं होता है। हम आपको बताते हैं कि किस तरह के केले का सेवन नहीं करना चाहिए - 

बहुत अधिक पके हुए केले ना खाएं – 

आप मार्केट से साफ-सुथरा पीले रंग का केला लेकर आए, लेकिन कुछ ही दिनों में वे रखे-रखे गल गया और उसके छिलके भी भूरे-काले रंग के नजर आने लगे, तो समझ लें कि यह बहुत ज्यादा पक चुका है। बहुत अधिक पका केला में स्टार्च की मात्रा कम हो जाती है। धीरे-धीरे स्टार्च शुगर में बदल जाता है। अधिक शुगर युक्त केला खाने से डायबिटीज में नुकसान पहुंचा सकता है।

पके केले में फाइबर होता है कम – 

जब केला बहुत अधिक गल-पक जाता है, तो उसमें फाइबर की मात्रा भी कम हो जाती है। जो बिल्कुल पीले और कम पके केले होते हैं, उनमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। पके हुए केले में अन्य पोषक तत्व, विटामिंस भी कम पाए  जाते हैं। यदि रक्त में ग्लूकोज का लेवल कम है, तो उसे बढ़ाने के लिए पका हुआ केला खा सकते हैं।

पीले रंग के पर्याप्त पके केले हैं बेस्ट ऑप्शन – 

केला खाना है तो ना बहुत कच्चा और ना ही बहुत पका हुआ खाएं। पीले रंग के छिलके वाले टाइट केला बेस्ट होता है। इनमें सभी पोषक तत्व भी मौजूद रहते हैं। खाने में इसका स्वाद भी मीठा और स्वादिष्ट होता है।

हरे छिलके वाले कच्चे केले जरूर खाएं – 

ये थोड़े कम पके होते हैं, पर सेहत के लिए इन्हें भी अच्छा माना गया है। इनमें शुगर की मात्रा बहुत अधिक नहीं होती है। जिन लोगों को अपना वजन कम करना है, वे इस तरह के केले का सेवन कर सकते हैं। इसे खाने पर पेट भरा हुआ महसूस होता है। यह पेट के लिए भी हेल्दी होता है। एक्सपर्ट अक्सर कच्चा केला खाने की सलाह देते हैं, क्योंकि ये पेट को साफ करता है, पाचन को दुरुस्त करता है। कब्ज की समस्या दूर होती है। हरे केले का भरता, सब्जी आदि लोग खाते हैं।
 


बनारस और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. banarasvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.